Positive

पिता को साइकिल पर बैठा बिहार ले आई बेटी, अब हर ओर हो रही तारीफ

नई दिल्ली।

coronavirus लॉकडाउन ( Lockdown ) में जहां-तहां फंसे मजदूरों के हौसले की कई कहानियां सामने आ रही हैं। बिहार के रहने वाले मोहन पासवान और उसकी बेटी ज्योति ( Jyoti ) की कहानी भी कुछ ऐसी ही हैं। 15 साल की ज्योति अपने बीमार पिता को साइकिल पर बैठाकर गुरुग्राम से बिहार ले आईं। रास्ते में कई तरह की परेशानियां हुई, लेकिन ज्योति ने हिम्मत से काम लिया। ज्योति ने करीब एक हफ्ते में साइकिल से 1000 किलोमीटर का सफर तय किया। 7 दिन तक वह अपने बीमार पिता को बैठाकर साइकिल चलाती रहीं। ज्योति की कहानी सोशल मीडिया ( Social Media ) पर वायरल हो रही हैं। लोग दोनों के जज्बे को सलाम कर रहे हैं।

बीबीसी से बातचीत में ज्योति ने बताया, उसके पिता एक्सीडेंट में घायल हो गए थे। पिता की बेबसी देखकर उसने घर बिहार लौट आने का फैसला किया। ज्योति ने पुरानी साइकिल खरीदने का फैसला किया। साइकिल के लिए 1200 रुपये में सौदा तय हुआ। उसने बताया कि साइकिल वाले को देने के लिए 1200 रुपये भी नहीं थे। ऐसे में हमने उनसे विनती की और 500 रुपये अब और 700 रुपये वापस आने के बाद देने की बात कही। इस पर वह राजी हो गए। ज्योति ने बताया, हमारे पास कोरोना सहायता के तौर 1000 रुपये मिले थे। उस में से 500 रुपये साइकिल वाले को दे दिए और 500 रुपये खर्चें के लिए रख लिए।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top