Viral

आगे दो बेटियां, पीछे बेटे को गोद में लिए बैठी मां और साइकिल चलाता पिता 800 किमी दूर पहुंचा घर

नई दिल्ली।
Coronavirus: कोरोना वायरस और लॉकडाउन ( Lockdown ), दोनों ने गरीबों की कमर तोड़ कर रख दी है। आर्थिक संकट के चलते इन मजदूरों ( Migrant Labours ) पर अब रोजी रोटी का भी संकट खड़ा हो गया है। ऐसे में मजदूरों का अपने घरों की ओर पलायन जारी है। मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले के ग्राम खुर्सीपार के रहने वाले मजदूर बुधराम की कहानी भी कुछ ऐसी दास्तां को बयां करती हैं।

भारत में फिर लग सकता है Lockdown? विशेषज्ञों ने तेजी से बढ़ते संक्रमण पर जताई चिंता

साइकिल से तय किया 800 किमी का सफर
बता दें कि बुधराम अपने परिवार के साथ हैदराबाद में रहकर मजदूरी करते थे, लेकिन कोरोना काल और लॉकडाउन के चलते रोजगार छीन गया। ऐसे में आर्थिक स्थिति खराब हो गई। यहां तक कि खाने तक के पैसे नहीं थे। जब कोई चारा नहीं बचा तो बुधराम अपने परिवार को लेकर गांव खुर्सीपार के लिए रवाना हो गया। राह इतनी आसान नहीं थी, ऐसे में उसने साइकिल का बंदोबस्त किया और उसी पर परिवार को लेकर 800 किमी दूर घर के लिए निकल पड़ा।

Coronavirus: इन गांवों में अब हर साल होगा Lockdown, कामकाज पूरी तरह रहेगा बंद

पत्नी, तीन बच्चों को लेकर चलाया साइकिल
बुधराम ने बताया कि, उसने तीन बच्चों और पत्नी को बैठाकर साइकिल चलाई और 800 किमी का सफर तय किया। रास्ते में काफी परेशानी हुई, लेकिन परिवार का साथ उसे हिम्मत दे रहा था। बुधराम ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से हाथ खाली हो गए। जब पास बचे रुपये खत्म हो गए तो लोगों से मदद मांगी। वह भी खत्म हो गई। बच्चों की भूख बर्दाश्त नहीं हुई तो घर वापसी के लिए साइकिल से निकल पड़ा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top